Like Free Essay
Search More Essay!

Search box is Loading

Feb 27, 2012

Essay on Journey by Train or Railway or Rail in hindi for Class| Std 2,3, School Students

नमस्कार मित्रों कुछ दिनों से मै  देख रहा हूँ की Essay on Journey by Train or Railway or Rail in hindi for Class| Std 2,3,4,5,6 School Students की मांग है इसलिए मैंने सोचा की अब इसको लिख देते हैं  मै  हमेशा कोशिस करता हूँ की अच्छा निबंध लिखूं ।मै एक बात आप सब को बता देना उचित समझता हूँ , कि सभी निबंध (essay) को monitor  करके up to date बनाया जाता है । यह इस site  का एक मुख्या कार्य है , जो अन्य site  से बेहतरीन निबन्ध  प्रदान करता है ।
अब मै journey by train or railway पर निबंध लिखना सुरू कर रहा हूँ 

पिछले साल मै अपने परिवार के साथ राजस्थान गया था हम सब ने तय किया कि  यह यात्रा हम सब Train (Railway or rail) से करेंगे इसलिए हमने train टिकट  (ticket) पहले से irctc website से बुक कर लिया मेरे पापा ऑनलाइन बुकिंग में बहुत स्मार्ट हैं हम लोगों का जो रूट था; वह सीधे राजस्थान को नहीं था , बल्कि वाया नयी दिल्ली से था सबसे पहले हम सबने दो दिन पहले से सामान की लिस्ट तैयार की  यह packing करने का मेरे पापा के अनुभव के अनुसार सबसे अच्छा तरीका है कि  पहले आप एक स्थान पर बैठकर लिस्ट बना ले ऐसा करने से कुछ भी बाद नहीं जाता है यह मेरे पापा का तीस साल का अनुभव है उसके बाद हमने लिस्ट के अनुसार सारा सामान packing  कर लिया। एक टैक्सी से हम सब दुर्गापुर railway  स्टेशन पर गए ट्रेन राईट टाइम थी हम सब poorva Express में टिकट बुक किये  थे ट्रेन में बैठने के बाद हमने अपना सामान ठीक से रख लिए  मेरा टिकट  window साइड में था ट्रेन journey  में यह मेरा पसंदीदा सीट है मै खिड़की से बहार पूरे दृश्य का आनंद लेने लगा ट्रेन पूरे १०० km /hr  की स्पीड से चल लाही थी ऐसा लगता था मुझे कुछ भी याद नहीं है कि  मुझे दस दिन बाद स्कूल जाना है पढाई के बोझ से मै तंग  गया था उस दिन मुझे बहुत शोकून मिल रहा था


करीब रात को नौ बजे हम सब ने खाना खाया । ट्रेन में हम लोग बहुत अच्छा खाने का इंतजाम करते हैं । खाना खा के मै सो गया । सुबह सात बजे हम सब Delhi  पहुँच गए । Train Journey  अपने आप में एक सुखद अनुभव है । दिल्ली जाकर हमने एक होटल बुक किया । होटल का लोकेशन जामा मस्जिद के पास में चुना गया था ।  जामा   मस्जिद के पास होटल इसलिए लिया गया था , क्योंकि वहां का तंदूरी रोटी बहुत मशहूर है । पहले दिन साम को हम सब ने New  Delhi  घूमने का प्लान बनाया  ।  और हमने लाल किला जाकर एक बस agency  से चार टिकेट ले ली  । तो इस तरह  बस के द्वारा  बहुत सस्ते में हम सब पूरा दिल्ली घूम लिए। एक दिन में Delhi पूरा घूमने में बहुत ही कम पैसा खर्च हुआ । 

उसके बाद तीसरे दिन हम सब पुरानी  दिल्ली स्टेशन से करीब १०:४० पर अजमेर एक्सप्रेस में सवार  हो गए । तो एक बार फिर ट्रेन journey  का सिलसिला सुरु हो गया । सुबह हम लोग अजमेर पहुंचे । इसके बाद पूरा राजस्थान घूमे । वहां से हम लोग बस पकड़ कर आगरा आ गए । ताज महल देखने के  बाद हम सब फिर दिल्ली आ गए ।  इस बार दिल्ली में थोडा आराम करके दुसरे दिन हम सब  poorva  Exp से दुर्गापुर  वापस आ गए । इस पूरे टूर में जो सबसे अच्छा अनुभव रहा वह ट्रेन जौर्नी ही रहा । लेकिन इसके लिए सबसे जरूरी है की सारा टिकट  प्लान करके पहले से बुक कर लिया जाए । इसका कारण  है की journey  के दौरान टिकट का टेंशन दिमाग में न रहे।

ट्रेन journey  करने के पहले अछे से प्लान करना चाहिए । ट्रेन में खाने का इंतजाम अच्छा होना चाहिए तभी जाकर आप पूरा आनंद उठा पौएँगे ।
धन्यवाद !



You may also Like These !


No comments:

Post a Comment

Add More Points to this ESSAY by writing in the COMMENT BOX !